इश्क

अब मैं इश्क करता हूँ ज़र्रे ज़र्रे से;
हर जगह मुझको वही दिखता है
मैं तो फिर भी भूल जाता हूँ ;
पर वो मुझको याद रखता है
"I believe in my self because I believe in god, I believe in god because I believe in my self.

(मेरा मुझमे कुछ नाहि, जो होवत सो तोर)

Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

शाम है और गुफ़्तगू भी

'I' between me and myself

खुद को ही पाउँ