Friday, 15 April 2011

प्यास


उनकी आँखे तो एक समंदर है,
पर कितने मौसम की प्यास बैठी है
अपने सागर से मिलने को ,
कितनी ही नदियाँ उदास बैठी है

2 comments:

  1. यह तो बहुत ही जानदार शेर लिखा है आपने!

    ReplyDelete
  2. सब उसकी मेहरबानी है.

    ReplyDelete

राम

अगर कोई विकास से लेकर राष्ट्रवाद तक के इस दस मुख वाले रावण का अंत कर दे  तो मैं माँ लूँगा की राम हैं  अगर कोई अर्जुन की तरह  संश...