प्यास


उनकी आँखे तो एक समंदर है,
पर कितने मौसम की प्यास बैठी है
अपने सागर से मिलने को ,
कितनी ही नदियाँ उदास बैठी है

Comments

  1. यह तो बहुत ही जानदार शेर लिखा है आपने!

    ReplyDelete
  2. सब उसकी मेहरबानी है.

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

विरह गीत

मृत्यु तुम से बिना डरे

ख़्वाब के पार