प्रतीक्षा


घर की बिखरी हुई वस्तुएं
मै समेटना चाहता हूँ जिन्हें,
की वो अपने पूर्ण सौंदर्य में हों
मेरे हृदय अंतस्थल पर बिखरी हुई ,
उसके साथ बिताये पल की यादें
मैं संजोना चाहता हूँ जिन्हें,
कि मैं उस पल को पूरी तरह जी सकूँ
उसके आने का दिन !
मैंने सहेजा है घर में बिखरी वस्तुएं
इस एहसास के साथ कि उसके आने से ,
फिर से जीवन होंगे उसके साथ बिताये पल के अनुभव
मैं संजो लूँगा उसके साथ बिताये पल को
आह! ये इंतज़ार बरसों का लगता है
अब बस वो जाए !

Comments

  1. kya baat hai sir ji,.,.,. waise kiska intzaar ho raha hai,.,. :)

    ReplyDelete
  2. अपना गम लेके कहीं और न जाया जाए,
    घर में बिखरी हुयी चीज़ों को सजाया जाए!!

    ReplyDelete
  3. सुमन जी आपका आभार!
    सलिल जी आपने बहुत खूब कहा.

    ReplyDelete
  4. बहुत बढ़िया!
    लिखते रहो, सुधार और निखार आता जाएगा!

    ReplyDelete
  5. बहुत बढ़िया!
    लिखते रहो, सुधार और निखार आता जाएगा!

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

शाम है और गुफ़्तगू भी

'I' between me and myself

खुद को ही पाउँ