Saturday, 3 March 2012

सत्य है,तुम्हारा अकेलापन



तुम भीड़ में भी कितने अकेले हो,
ठहर कर देखो.
तुम भाग नहीं सकते,
ख़ुद से और इस भीड़ से.
पर तुम बिलकुल अकेले हो,
और तुम्हे जीना होगा इस सच्चाई को.
उस पल में सुनते हो लोगों को, 
या नहीं सुनते,
पर तुम्हारे भीतर है एक आवाज.
आवाज जो बार बार कहती है, 
कि तुम  अकेले हो.
ऐसा होता है,
जब तुम भीड़ में होते हो.
पर क्या भीड़ तुम्हे जान पाती है.
नहीं, नहीं जान पाती.
तो फिर तुम भीड़ में अकेले हुए.
सत्य यही है,
तुम अकेले आये थे, अकेले जाओगे. 
बाकी सब भ्रम है.
सत्य है, तुम्हारा अकेलापन.

6 comments:

  1. एक बहुत बड़े एकाकीपन का एहसास होता है जब भीड़ में अकेला होता है कोई.. बहुत गहरी वेदना!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. कल नेहरू प्लेस गया था. वहाँ बैठा था, तो सारी दुनिया सामने थी, पर एक भीड़ सी.

      Delete
  2. गहन ...एकांत सदा साथ देता है.... और कोई दे न दे

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी हाँ, आप किसी और के साथ हो या न हो, पर अपने साथ हो सकते हैं, हमेशा.

      Delete
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    होलिकोत्सव की शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार!
      आपको भी होलिकोत्सव की शुभकामनाएँ.

      Delete

राम

अगर कोई विकास से लेकर राष्ट्रवाद तक के इस दस मुख वाले रावण का अंत कर दे  तो मैं माँ लूँगा की राम हैं  अगर कोई अर्जुन की तरह  संश...