होली


आए बसंत भर जाये फूलों से झोली;
ऐसे मे खेले ये मन प्रकृति भी होली.

आसमान में बादल की रंग बिरंगी टोली;
जो इठला- इठला के करें हँसी ठिठोली.

पिया रंग में रंगी जो चुनर ये ओढ़ ली;
अब तो बस खेलूँ मैं पिया रंग की होली.

पिया को कैसे कह दे, मधुर हो होली;
जब तक मन से मैं न पिया की हो ली.

Comments

  1. वाह!
    बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    होली का पर्व आपको मंगलमय हो!
    बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपको भी बहुत-बहुत शुभकामनाएँ.

      Delete
  2. Replies
    1. आपको भी होली की शुभकामनाएँ.

      Delete

Post a Comment

Popular posts from this blog

विरह गीत

मृत्यु तुम से बिना डरे

ख़्वाब के पार