रात जम के बारिश तो हुई


यहाँ,रात जम के बारिश तो हुई;
पर दिल का आँगन सूखा ही रहा.

महफ़िल में लोग भी आए थे;
पर महफ़िल दिल का सूना ही रहा.

मेरी आँखे तो थीं ढूढ़ रही;
पर मेरा आईना तो झूठा ही रहा.

वो एक समंदर है मेरा;
मैं एक दरिया सा बहता ही रहा.

फूलों का ख्वाब सजाए हुए;
मैं काँटों का साथ देता ही रहा;

पल साथ मिले जी भर जी लूँ;
तिल तिल कर पल जीता ही रहा.

Comments

  1. बहुत खूबसूरत अहसास

    ReplyDelete
    Replies
    1. ये गम मेरा अपना तो नहीं, से सबका रहा है मुद्दत से;
      बस फ़र्क यहाँ पर इतना है, मैने है जिया इसे सिद्दत से. © Gyanendra

      Delete
  2. बहुत खूब ... मन के आँगन बारिश नहीं मन की बूंदों से भीगते हैं ...
    अच्छी अचना है मुसाफिर जी ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपको पसंद आई ये रचना जान कर अच्छा लगा .
      सहृदय आभार.

      Delete
  3. आभार!!
    प्रणाम

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

'I' between me and myself

ख़्वाब के पार

विरह गीत