Monday, 12 March 2012

ज़रा वक़्त लगेगा


मेरा हौसला देखोगे तो न वक़्त लगेगा; 
पर हालत समझने में ज़रा वक़्त लगेगा.

चेहरे की रौनक तो दिख जाती है दूर से;
पर दिल को समझने में ज़रा वक़्त लगेगा. 

कहते हो न जाओगे अब मुझसे दूर तुम;
जाओगे तो पास आने में बहुत वक़्त लगेगा.

तकलीफ़ ये नहीं की दिल ये साफ़गोई है;
बस जमाने को समझने में ज़रा वक़्त लगेगा.

मैं दूर का 'मुसाफिर' चलना ही जिंदगी है;
मुश्किलों का सफ़र कटने में ज़रा वक़्त लगेगा.

6 comments:

  1. A very well-written post. I read and liked the post and have also bookmarked you. All the best for future endeavors
    IT Company India

    ReplyDelete
  2. वाह!
    बहुत खूब!
    बढ़िया सृजन किया है आपने!

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी आप गुरुजनों का आशीर्वाद है.
      आभार.

      Delete
  3. नमस्कार !
    ......वाह सुन्दर शब्दों से रची खूबसूरत रचना !
    होली की सादर बधाईयाँ...
    जरूरी कार्यो के ब्लॉगजगत से दूर था
    आप तक बहुत दिनों के बाद आ सका हूँ

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपको भी होली की शुभकामनाएं.
      आभार.

      Delete

सुंदर पुरुष, बहादुर स्त्रियाँ

धीरे-धीरे मुझे ये यक़ीन हो गया है की दुनिया के सारे सुंदर पुरुष खाना पकाने में कुशल होते हैं क्यों की सुंदर वही होता है जो भीतर मन से पका ह...