मित्र अभिनव की एक कविता पढ़ने के बाद आए विचारों से उत्पन्न एक कविता

बुख़ार की चादर ओढ़कर सोये//एक हफ्ते से ज्यादा का वक़्त बीत चुका है.//आई ऐसे जैसे Camus के अभागे Stranger को सजा मुकर्रर कर दी गयी हो//वक़्त-बेवक्त टीसती है एक बीच से शुरू हुई कविता की तरह //इच्छाएं अगर स्थिर होती हैं तो उनमें कोई रंग नहीं होते//बुख़ार का रंग हल्का पीला होता है //बुख़ार बहुत गहरा हो तब भी//पर बुख़ार योग नहीं है. //ऐसे में इच्छाएं अपने केंद्र के चारों तरफ //या इधर उधर //इस तरह धीरे धीरे चक्कर लगाती हैं //जैसे हो गया हो उनका वीर्यपात //माथे पर स्वेद-बिंदु अलग अलग देशों के मानचित्र बनाते हैं //आये कोई राजकुमारी और जीत ले जाये सारा राजपाट.//हालाँकि मुझे ज्यादा तकलीफ खाँसने से है // तुम्हारा नाम भी तो कितना कठिन है //खांसते हुए ठीक से उच्चार नहीं पाता//खांसी नाम के जैसी संज्ञा नहीं है, पर है तो ध्वनि ही // ध्वनियाँ एक दूसरे की सौत बन गयी हैं.//मेरे संतूर से भी अब यदा कदा कुछ खांसती हुई ध्वनियाँ निकलती हैं //ध्वनियों का अलग अलग कोणों पर //अलग अलग समय से खुलना //खांसी को संगीत से अलग करता है.//दवा बदल दी है मैंने//कहते हैं पहली वाली से ज्यादा असरदार है//ठीक होने के रास्ते खुले रखना //हमेशा स्वार्थ नहीं होता. ~अभिनव.



तुम्हारे बुखार को धन्यवाद ........
मैं एक बार को कहूँगा अच्छा है,
कभी कभी बुरा वक़्त भी अच्छी सौगात दे जाता है ...........
और की वस्तुओं के लिए हमारा नज़रिया बदल जाता है
फिर चाहे बुखार हो, खाँसी हो, संगीत हो, पसीने की बूँद हो,
असरदार दवा हो, तुम्हारा संतूर हो, इच्छायें हो,
या की वीर्यापात हो.. सब कुछ .......
एक अच्छी कविता के लिए तुम्हे बधाई .........
वो एक ऐसा मेहमान है जो तोहफा लेकर आया है,
पर उसे समझा दो मेहमान है जल्दी से लौट जाए,
ज़्यादे दिन रहा तो उसका अच्छा इलाज करना पड़ेगा.
अब दोस्त थोड़े ही है
कि तुम उसे बार-बार कहो 'रुक ना' 'कहाँ जा रहा है'
'चल लंका गेट तक साथ घूम कर आते हैं'
'आज चाय तेरी तरफ से'
वो हॉस्टिल मे आए पेरेंट्स की तरह है'
जल्दी भगा देने में ही अच्छाई है.
वरना हॉस्टल की गालियाँ
तुम्हारे गर्लफ्रेंड की आवाज़ (फ़ोन पर बातें) सब बदल जायेंगी.

Comments

  1. Replies
    1. बहुत बहुत आभार !!!

      Delete
  2. Replies
    1. निशांत जी आपका बहुत बहुत आभार!!!

      Delete

Post a Comment

Popular posts from this blog

शाम है और गुफ़्तगू भी

'I' between me and myself

खुद को ही पाउँ