फगुआ में रंग सबहु के लागी

एनहू के लागी ओनहू के लागी;
फगुआ में रंग सबहु के लागी.

देवरो के लागी जेठओ के लागी;
फगुआ में रंग सबहु के लागी.

ससुरो के लागी ससुयो के लागी;
फगुआ में रंग सबहु के लागी.

जवनको के लागी बुढाओ के लागी;
फगुआ में रंग सबहु के लागी.

चाहे केहू हाँसे चाहे केहु रोए;
फगुआ में रंग सबहु के लागी.

डेराइब नाही लजाइब नाही;
फगुआ में रंग सबहु के लागी.

चढ़ल बा फगुआ के बोखार हो सजनी;
फगुआ में रंग सबहु के लागी.

Comments

  1. क्या बात हैं आपकी कविता की और फगुआ की!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार सर!!!

      Delete
  2. भागी रे सरकार भागी धर पाँव सिर ऊपर |
    भागे भागे भूत के भाग लंगोटी धर ||

    ReplyDelete
    Replies
    1. नीतू जी आपका आभार!!!

      Delete
  3. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवारीय चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत दिनों बाद पधारें हैं आप.
      बहुत बहुत आभार!!!
      चर्चा मंच पर जगह देने और ज्यादे लोगों तक फाग के इस रंग को पहुँचाने के लिए शुक्रिया!!!

      Delete
  4. हमको भी लागी और तुमको भी लागी ,लगन मोरे संजनवा कब से है लागी .

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत सुंदर ....... आभार!!!

      Delete
  5. बहुत बढ़िया भोजपुरीया छाप #

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

ख़्वाब के पार

विरह गीत

मृत्यु तुम से बिना डरे