Monday, 5 May 2014

फ़ुर्सत में कहां हूं मैं


मैं समंदर हूं कि हवा हूं मैं;
नहीं हूं खुद में तो कहाँ हूं मैं|

लम्हें वो जिनको ज़ी नहीं पाया;
उन ही लम्हों को जोड़ता हूँ मैं|

सांस बिखरी हों या तेरी यादें;
एक तड़फ़ है जो ज़ी रहा हूं मैं|

एक अरसा हुआ देखे तुझको;
अरसा पहले ये पल जिया हूं मैं|

मिलना फ़ुर्सत से सफ़र के बाद;
'मुसाफिर' हूं फ़ुर्सत में कहां हूं मैं|

22 comments:

  1. समंदर हूँ कि बादे-सबा हूँ मैं..,
    खुद में नहीं हूँ तो कहाँ हूँ मैं..,

    बादे -सबा = पूर्व से पश्चिम की ओर बहने वाली हवाएँ

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार!!!

      Delete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (07-05-2014) को "फ़ुर्सत में कहां हूं मैं" (चर्चा मंच-1605) पर भी होगी!
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. रचना को ज्यादे लोगों तक पहुँचाने के लिए आभार!!!

      Delete
  3. Replies
    1. सहृदय आभार!!!

      Delete
  4. बहुत सार्थक और सटीक प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  5. बहुत खूब ... मुसाफिर का काम तो चलना ही है ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. वक़्त के साथ चलते हुए ...... जो महसूस किया, वही कलम ने लिख दिया ..... हौसला बढ़ाने के लिए आभार!!

      Delete
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति ,मुसाफिर को फुर्सत मिल जाये तो कैसा मुसाफिर। ....

    ReplyDelete
    Replies
    1. सहृदय आभार!!
      प्रणाम!!

      Delete
  7. कल 09/05/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद !

    ReplyDelete
    Replies
    1. ज्यादे लोगों से साझा करने के लिए आभार!!!

      Delete
  8. Replies
    1. सहृदय आभार!!!

      Delete
  9. बेहतरीन कविता......

    ReplyDelete
    Replies
    1. सहृदय आभार!!!

      Delete
  10. अच्छे भावभूमि से उपजी एक भावभीनी ग़ज़ल।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार!!!

      Delete

सुंदर पुरुष, बहादुर स्त्रियाँ

धीरे-धीरे मुझे ये यक़ीन हो गया है की दुनिया के सारे सुंदर पुरुष खाना पकाने में कुशल होते हैं क्यों की सुंदर वही होता है जो भीतर मन से पका ह...