ठहराव














माँ का गर्भ
सुंदर जीवात्मा
मानव शरीर


दृष्टि ठहरी
दुनिया देखने
और पहचानने की


ठहरे और
ठिठके कदम
डग भरने को


हृदय प्रेम
ठहराव साँसों का
प्रेम अनुभूति


प्रथम कदम
वाषना प्रधान
ठहराव शरीर


गहन अनुभूति
प्रेम की उचईयाँ
ठहराव प्रेम


जीवन ठहराव
संगीत नृत्य प्रेम
परमात्मा


आत्मा परमात्मा
एक ही ठाँव
एक में ठहराव


साँसें उखड़ती
मृत्यु सजग
नयी यात्रा का पड़ाव

ठहराव

Comments

  1. सार्थक प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शनिवार (27-12-2014) को "वास्तविक भारत 'रत्नों' की पहचान जरुरी" (चर्चा अंक-1840) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

शाम है और गुफ़्तगू भी

'I' between me and myself

खुद को ही पाउँ