गम की धूप, छाँव खुशी की मिली होती


गम की धूप, छाँव खुशी की मिली होती;
थोड़ा आसमान थोड़ी ज़मीन मिली होती.

कहाँ माँगता हूँ,चाँद मिले आँचल में;
चाहतें थी थोड़ी रोशनी मिली होती.

दौड़ता भागता रहा जिंदगी के लिए;
दौड़ते भागते ही जिंदगी मिली होती.

तुम से बेहतर यक़ीनन कोई  ख़याल न था;
हक़ीकत में भी अगर तुम कहीं मिली होती.

अमीरी भी 'मुसाफिर' को मिल गयी होती;
मुसाफ़िरी जो कहीं फकीरों की मिली होती.

Comments

  1. बहुत सुन्दर....होली की हार्दिक शुभकामनाएं ।।
    पधारें कैसे खेलूं तुम बिन होली पिया...

    ReplyDelete
    Replies
    1. देर से सही, आपको भी होली की बधाई.
      अपने ब्लॉग का लिंक दे कृपया|

      Delete
  2. बहुत ही बेहतरीन प्रस्तुति,आभार.

    ReplyDelete
    Replies
    1. अभिवादन सहृदय आभार !!!

      Delete
  3. bhai waah ... thodi si roshni ki chaah liye .. lajawaab sher sabhi ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रणाम!
      बहुत बहुत आभार !!!

      Delete

Post a Comment

Popular posts from this blog

ख़्वाब के पार

विरह गीत

मृत्यु तुम से बिना डरे