Thursday, 10 March 2011

tumhe bhi wada karke mukar jane ki aadat hai;
mujhe bhi aitbar karne ki kuch kam to nahi.

1 comment:

सुंदर पुरुष, बहादुर स्त्रियाँ

धीरे-धीरे मुझे ये यक़ीन हो गया है की दुनिया के सारे सुंदर पुरुष खाना पकाने में कुशल होते हैं क्यों की सुंदर वही होता है जो भीतर मन से पका ह...