Thursday, 10 March 2011

यकीनन यकीं है मुझे, मैं तुमपे ऐतबार करता हूँ;
न कर सकूँगा मगर मौत के आने के बाद।

2 comments:

  1. aage....just joking yr!!

    tere liye bacha rakhe the 2 kachhe aam badi mudatta se,
    magar bacha na sakunga, achaar banane ke baad....:))

    tere aane se pahle nahaya karta tha kabhi-2 mai,
    ab fir se nahata hun nahane ke baad....:))

    ReplyDelete

सुंदर पुरुष, बहादुर स्त्रियाँ

धीरे-धीरे मुझे ये यक़ीन हो गया है की दुनिया के सारे सुंदर पुरुष खाना पकाने में कुशल होते हैं क्यों की सुंदर वही होता है जो भीतर मन से पका ह...