Monday, 7 March 2011

maine socha wo samajh lega meri mohabbat ko;
per mujhe hi ab samajhna pada uski bewafai ko.
sochta hoon lag jaye ye dil kisi mahfim me magar;
darta hoon yad karke mahfil me uski ruswai ko.

No comments:

Post a Comment

सुंदर पुरुष, बहादुर स्त्रियाँ

धीरे-धीरे मुझे ये यक़ीन हो गया है की दुनिया के सारे सुंदर पुरुष खाना पकाने में कुशल होते हैं क्यों की सुंदर वही होता है जो भीतर मन से पका ह...