Friday, 26 January 2018

प्रेम

प्रेम मुझे बहता हुआ अनुभव होता है 
शरीर में बह रहे रक्त में ही नहीं 
मेरे समस्त अस्तित्व की ऊर्जा में 
और तुम अब भी 
दूसरी तरफ़ खड़े हो कर तय कर रहे हो 
कि मैं क्या सोचता हूँ 
और किस तरह का व्यक्ति हूँ 
तो सच मानो तुम उसे खो दोगे 
हमेशा के लिये
जिसे तुम अभी मिल भी न सके थे 

No comments:

Post a Comment

राम

अगर कोई विकास से लेकर राष्ट्रवाद तक के इस दस मुख वाले रावण का अंत कर दे  तो मैं माँ लूँगा की राम हैं  अगर कोई अर्जुन की तरह  संश...