Wednesday, 1 April 2015

ख्वाब आँखों से जो छूटे

ख्वाब आँखों से जो छूटे;
तो मैं जगा हूँ अभी|

डूबता जाता हो दिल ये;
तो इरादा हूँ अभी|

आश खोजो जो दिल में;
तो मैं वादा हूँ अभी|

मय पी है, मोहब्बत नहीं;
तो मैं प्यासा हूँ अभी|

खोजो काली रात की ताक़त;
तो चाँद सा हूँ अभी|

मैं 'मुसाफिर' ही हूँ अभी;
तो रहजदा हूँ अभी|  

No comments:

Post a Comment

सुंदर पुरुष, बहादुर स्त्रियाँ

धीरे-धीरे मुझे ये यक़ीन हो गया है की दुनिया के सारे सुंदर पुरुष खाना पकाने में कुशल होते हैं क्यों की सुंदर वही होता है जो भीतर मन से पका ह...