एहसास


जब भी एहसास इतने गहरे हुए 
कि ज़ुबान बयाँ न कर सके 
मुझे मेरा मौन अच्छा लगा
लहरों की आवाज़ और पंछी की चहक अच्छी लगी
और लगा की खुद के होने के अहम से
कहीं अच्छा है, खुद के न होने  का एहसास 

Comments

  1. कल 08/12/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. बहुत बहुत आभार !!

    ReplyDelete
  3. आपके अहसास ने मुझे बहुत प्रभावित किया ...जितनी छोटी उतनी ही भावभरी ....बधाई ज्ञानेंद्र जी !

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

विरह गीत

मृत्यु तुम से बिना डरे

ख़्वाब के पार