चार आँखें थीं वो

चार आँखें थीं वो
लगता था तस्वीर से बाहर निकल कर
सीधे भीतर झाँक रहीं हों अंतस तक
दो आँखे उम्र दराज थी
पर गजब की चमक थी अनुभव की शालीनता की
दो बिल्कुल युवा आँखे थी
उनमें चमक थी भविष्य के भीतर झाँकने की
अपने संबल से भविष्य रचने की
पर एक समानता थी दोनो में
दोनो ही जैसे सामने वाले के भीतर झाँक लेती हों
और सहसा ही स्तब्ध करती है मन को
जैसे सब को खुद से जोड़ लेना चाहती हों
पर अगले ही पल एक निर्मल एहसास
सुख और शांति

Comments

  1. मित्रों!
    13 दिसम्बर से 16 दिसम्बर तक देहरादून में प्रवास पर हूँ!
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (16-12-2012) के चर्चा मंच (भारत बहुत महान) पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
    Replies
    1. लोगों तक रचना पहुंचाने के लिए बहुत बहुत आभार!!!!

      Delete
  2. सुन्दर प्रस्तुति बोलती आँखे

    ReplyDelete
  3. आकस्मिक ही होता है जो कुछ होता है बदलाव लाने वाला .सघन अनुभूति की रचना .

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार!!!

      Delete
  4. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete

  5. शुक्रिया दोस्त आपकी उद्देश्य पराक टिपण्णी का .हमारी धरोहर है आपकी कही .

    ReplyDelete
  6. शुक्रिया आपकी सद्य टिपण्णी का .

    Virendra Sharma ‏@Veerubhai1947
    ram ram bhai मुखपृष्ठ http://veerubhai1947.blogspot.in/ बृहस्पतिवार, 27 दिसम्बर 2012 खबरनामा सेहत का



    Virendra Sharma ‏@Veerubhai1947
    ram ram bhai मुखपृष्ठ http://veerubhai1947.blogspot.in/ बृहस्पतिवार, 27 दिसम्बर 2012 दिमागी तौर पर ठस रह सकती गूगल पीढ़ी

    स्पेम में गईं हैं टिप्पणियाँ भाई साहब .

    ReplyDelete
  7. यहाँ मुंबई में इफरात से आता है शरीफा .आभार आपकी टिपण्णी का .

    ReplyDelete
  8. दुग्धाहार , ,गाय ,गंगा और मातृभूमि

    http://veerubhai1947.blogspot.in/

    ram ram bhai
    मुखपृष्ठ

    बृहस्पतिवार, 17 जनवरी 2013

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

विरह गीत

मृत्यु तुम से बिना डरे

ख़्वाब के पार