जीवन के क्षितिज पर
गहरे, स्याह, लाल और पीले रंग में
नयी रोशनी की तरह
दिखाई देते हो,तुम ही तो हो.

जीवन के एकांत और अंधेरी रात में
आकाश में चाँदनी लिए
जो देता है,जीवन को शीतलता.
चाँद, तुम ही तो हो

जीवन के नव-दिवस पर
आगे बढ़ने की प्रेरणा देते
अप्रतिम रोशनी बिखेरते
सूरज, तुम ही तो हो.

Comments

  1. नमस्ते...सुप्रभात...आपका दिन मंगलमय हो...!
    बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    27 अगस्त को लखनऊ में हिन्दी साहित्य परिकल्पना सम्मान सारोह आयोजित हो रहा है। समय 10 बजे से शाम 6 बजे तक।
    यह सम्मान 27 अगस्त को राय उमानाथ बली प्रेक्षागृहस कैसरबाग लखनऊ मे आयोजित होगा।
    आप भी आइए न!

    ReplyDelete
  2. प्रणाम
    आभार !!!!!!
    राय उमानाथ बली प्रेक्षागृह, लखनऊ में था तो अक्सर जाता था, वहां एक बार लखनऊ महोत्सव काव्य गोष्ठी भी हुआ था. नाटक और कथक का मंचन भी होता रहा है.

    ReplyDelete
  3. सहज/सुन्दर अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रणाम
      आभार !!!!!

      Delete
  4. प्रसंशनीय..। मेरी कामना है कि आप अहर्निश सृजनरत रहें । राही मासूम रजा की एक सुंदर कविता पढ़ने के लिए आपका मेरे पोस्ट पर आमंत्रण है ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आप आदरणीय लोगों का आशीर्वाद और प्रेम साथ है,
      कवितायेँ मन के गहरे अस्तर से आती रहेंगी.

      Delete

Post a Comment

Popular posts from this blog

विरह गीत

मृत्यु तुम से बिना डरे

ख़्वाब के पार