हृदय स्नेह भरे;
नयनन नीर बहे.
प्रेम सरस कुछ नाहीं जाग में;
यह विश्वास रहे.

तोड़ जगत के आडंबर सब;
हेरत प्रेम रहे.
हृदय स्नेह भरे;
नयनन नीर बहे.
----------------------------

हृदय स्नेह भरे;
नयनन नीर बहे.
जब खोजत, जग जाय हेराय;
तब सुख-प्रेम मिले.

खोजत रहे प्रेम जो बाहर;
भीतर आन मिले.
हृदय स्नेह भरे;
नयनन नीर बहे.
-----------------------------

हृदय स्नेह भरे;
नयनन नीर बहे.
धरती का आधार सकल शुभ;
बरसत प्रेम रहे.

जो जाने प्रेम रस मीठा;
सकल प्रेम बने.
हृदय स्नेह भरे;
नयनन नीर बहे.

Comments

  1. वाह ... बेहतरीन भाव लिए अनुपम प्रस्‍तुति।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सहृदय आभार !!!!!!

      Delete
  2. बहुत ही मधुर एवं सरस रचना ! आभार !

    ReplyDelete
  3. सुंदर भाव समेटे कविता.

    ReplyDelete
  4. सभी को सहृदय आभार !!!
    प्रणाम स्वीकार करें.

    ReplyDelete
  5. Replies
    1. प्रणाम!!!!
      आभार !!!

      Delete

Post a Comment

Popular posts from this blog

'I' between me and myself

ख़्वाब के पार

विरह गीत