Sunday, 3 June 2012

शाम भी अजनबी सा मुझे ढूढ़ता रहा;
मैं याद मे तेरी कुछ यूँ खोया हुआ रहा.

देखता हूँ दरवाजे पर दस्तक हो तुम दिये;
तेरी याद से जागा, बस वो झोका वहाँ रहा.

आरजू-ए-दिल से इंतज़ार के सफ़र में हूँ;
मोहब्बत का रास्ता ये कभी छोटा कहाँ रहा.

इस दौर-ए-मोहब्बत को यूँ जी रहा हूँ मैं;
तूँ देख ज़रा गौर से, मैं अपना कहाँ रहा.

मैं कह रहा हूँ नाम 'मुसाफिर' ही है मेरा;
'तेरा चाहने वाला हूँ' यही हर सख्स कह रहा.

4 comments:

  1. ..कमाल का शेर दिया है इस बेहतरीन गज़ल ने !
    फुर्सत मिले तो आदत मुस्कुराने की पर ज़रूर आईये

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका सहृदय आभार!!!!!!

      Delete
  2. बहुत खूब ... लाजवाब शेर हैं सभी ...

    ReplyDelete
  3. आभार!!!
    आपका ब्लॉग पढ़ा, बहुत अच्छा लगा.

    ReplyDelete

सुंदर पुरुष, बहादुर स्त्रियाँ

धीरे-धीरे मुझे ये यक़ीन हो गया है की दुनिया के सारे सुंदर पुरुष खाना पकाने में कुशल होते हैं क्यों की सुंदर वही होता है जो भीतर मन से पका ह...