जिंदगी क्या है


जिंदगी क्या है किताबों को हटा कर देखो;
मोहब्बत क्या है किसी को अपना बनाकर देखो.

सफ़र जिंदगी का है नये रास्तों से ही;
जिंदगी क्या है,नये रास्ते बनाकर देखो.

समंदर के सीने मे मौज है कितनी;
समंदर के सीने मे तुम समाकर देखो.

तुम समझ न सकोगे दूरियो की तड़प को;
अंधेरा होता है क्या, रोशनी को हटा कर देखो.

आग होती है क्या, हर तरफ धुआँ सा लगता है;
जलन होती है क्या, आग सीने मे लगाकर देखो.

वो 'मुसाफिर' से पूछते है की हाले दिल क्या है;
हालेदिल क्या है, ये मुझसे दिल लगाकर देखो.

Comments

  1. बहुत सुन्दर, बधाई

    ReplyDelete
  2. ..बहुत प्रभावशाली रचना ...बेहतरीन अंदाज़ बात कहने का

    ReplyDelete
  3. ग़ज़ल के भाव पसंद आए!

    ReplyDelete
  4. बहुत ही अच्छा लिखा है .

    ReplyDelete
  5. वाह ज्ञानेंद्र जी ,क्या बात है.खूब लिखा है आपने.

    ReplyDelete
  6. कुँवर कुसुमेश जी की टिपण्णी को दोहराता हूँ ...!

    ReplyDelete
  7. अपने रास्ते आप बनाने का आनन्द अलग ही होता है..... सुंदर पंक्तियाँ

    ReplyDelete
  8. waah... behtareen...
    ek-ek sher lajawaab...
    bahut badhiya ghazal...

    ReplyDelete
  9. गहरे भाव और अभिव्यक्ति के साथ शानदार ग़ज़ल लिखा है आपने ! उम्दा प्रस्तुती!
    मेरे नये पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/
    http://seawave-babli.blogspot.com

    ReplyDelete
  10. बहुत ही प्रभावशाली प्रस्तुति

    ReplyDelete
  11. जिंदगी क्या है ......... खुबसूरत वादियों में एक तन्हा आवाज काफी है मिशाल बनने को / प्रतिध्वनित होती ,आवाज को आवाज देती ,संजीदा लेखनी ..... बधाईयाँ जी /

    ReplyDelete
  12. bhavo ki bahut hi sundar abhivykti....
    behtarin rachana hai..

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

शाम है और गुफ़्तगू भी

'I' between me and myself

खुद को ही पाउँ