Sunday, 6 May 2012

खोजता हूँ खुद को खुद को जानता नहीं.

इस तरफ भी वही है, वो ये मानता नहीं;
कैसे हों पार तैरना तो जानता नहीं.

अब तक मेरे वजूद को झुठला रहा है वो;
कहता है कि मुझ को पहचानता नहीं.

मैने कहा मैं बस मोहब्बत का पैगाम हूँ;
वो, मोहब्बत है क्या ये जानता नहीं.

जाना ये जब से दिल में इबादत का दौर है;
उसके सिवा कुछ भी मैं माँगता नहीं.

दुनिया की दौड़ तो है मंज़िल की चाह में;
उसके बगैर मंज़िल कोई मैं जानता नहीं.

मैं दौड़ता 'मुसाफिर' इस पार से उस पार;
खोजता हूँ खुद को खुद को जानता नहीं.

6 comments:

  1. अपनी इस सुन्दर रचना की चर्चा मंगलवार ८/५/१२/ को चर्चाकारा राजेश कुमारी द्वारा चर्चा मंच पर देखिये आभार

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका सहृदय आभार|
      रचना को दूसरों तक पहुँचाने के लिए चर्चा मंच का आभार|

      Delete
  2. बहुत ही खूबसूरत बातें कहीं हैं आपने!! सादगी में भावनात्मक अभिव्यक्ति!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रणाम,
      चरण स्पर्श.
      आज कल फेसबुक पर नहीं दिखाई पड़ रहे हैं!!!!!
      सन्यास लेने का इरादा तो नहीं है वहां से.

      Delete
  3. Replies
    1. प्रणाम
      सहृदय आभार!!!

      Delete

सुंदर पुरुष, बहादुर स्त्रियाँ

धीरे-धीरे मुझे ये यक़ीन हो गया है की दुनिया के सारे सुंदर पुरुष खाना पकाने में कुशल होते हैं क्यों की सुंदर वही होता है जो भीतर मन से पका ह...