Thursday, 14 July 2011

वो प्यार कहाँ रे.............


बरसे हैं मेरे नयन
पर बहार कहाँ रे
तूँ जो मुझसे कहता था
वो प्यार कहाँ रे.

नयनन स्नेह रस
झर-झर जाए
तुझको मेरी सुध कहाँ
वो प्यार कहाँ रे.

मैं जागा रात भर
तू सोये नींद भर
जागी जागी रातों का
वो प्यार कहाँ रे.

11 comments:

  1. सुंदर प्रस्तुति , आभार

    ReplyDelete
  2. बहुत ही मार्मिक पर एक बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति !

    ReplyDelete
  3. बधाई ||

    थोडा घूमने की आदत डालो |
    मन बहल जाएगा ||

    ReplyDelete
  4. मामला कुछ और ही लगता है .....................सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  5. @दिनेश जी घूमता रहता हूँ.
    जब भी मौका मिलता है.
    दिल का पता नही होता कहाँ लगे कहाँ न लगे.

    @रेखा जी मामला कुछ और नही है,
    बस एक एहसास है, बयाँ कर दिया.

    ReplyDelete
  6. वियोग श्रृंगार की अच्छी रचना........

    ReplyDelete
  7. बेहतरीन।
    --------
    कल 08/08/2011 को आपकी एक पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  8. जागी जागी रातों का वह प्यार कहाँ रे
    क्या अंदाज है अपनी बात कहने का .....!

    ReplyDelete
  9. स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete

सुंदर पुरुष, बहादुर स्त्रियाँ

धीरे-धीरे मुझे ये यक़ीन हो गया है की दुनिया के सारे सुंदर पुरुष खाना पकाने में कुशल होते हैं क्यों की सुंदर वही होता है जो भीतर मन से पका ह...